Friday, February 19, 2010

ग़ज़ल - बहुत सहज हो जाने के भी अपने खतरे हैं|

बहुत सहज हो जाने के भी अपने ख़तरे हैं
लोग समझने लगते हैं हम गूँगे-बहरे हैं

होरी को क्या पता नहीं, उसकी बदहाली से
काले ग्रेनाइट पर कितने हर्फ़ सुनहरे हैं

धड़क नहीं पाता मेरा दिल तेरी धड़कन पर
मंदिर-मस्ज़िद-गुरुद्वारों के इतने पहरे हैं

पढ़-लिख कर मंत्री हो पाये, बिना पढ़े राजा
जाने कब से राजनीति के यही ककहरे हैं

निष्ठा को हर रोज़ परीक्षा देनी होती है
अविश्वास के घाव दिलों में इतने गहरे हैं

मैं रोया तो नहीं नम हुई हैं फिर भी आंखें
और किसी के आँसू इन पलकों पर ठहरे हैं

बौनो की आबादी में है कद पर पाबन्दी
उड़ने लायक सभी परिन्दो के पर कतरे हैं



अमित

8 comments:

हिमांशु । Himanshu said...

"बौनो की आबादी में है कद पर पाबन्दी
उड़ने लायक सभी परिन्दो के पर कतरे हैं"

इस अंतिम शेर ने तो खूब आनन्द दिया ! सलीके से कही गयी बात !

अमिताभ मीत said...

मैं रोया तो नहीं नम हुई हैं फिर भी आंखें
और किसी के आँसू इन पलकों पर ठहरे हैं

क्या बात है. आप बहुत अच्छा लिखते है ,,,,,,,,,,,

Devendra said...

बहुत अच्छी गज़ल है.

निष्ठा को हर रोज़ परीक्षा देनी होती है
अविश्वास के घाव दिलों में इतने गहरे हैं

..सभी शेर बेहद उम्दा हैं.इस शेर ने मन मोह लिया.

पारूल said...

धड़क नहीं पाता मेरा दिल तेरी धड़कन पर
मंदिर-मस्ज़िद-गुरुद्वारों के इतने पहरे हैं
निष्ठा को हर रोज़ परीक्षा देनी होती है
अविश्वास के घाव दिलों में इतने गहरे हैं

kya khuub hai ye

पारूल said...

बौनो की आबादी में है कद पर पाबन्दी
उड़ने लायक सभी परिन्दो के पर कतरे हैं"

ye bhii bahut acchha hai amit ji

दिगम्बर नासवा said...

बौनो की आबादी में है कद पर पाबन्दी
उड़ने लायक सभी परिन्दो के पर कतरे हैं ..

ग़ज़ब का शेर है ... बहुत खूबसूरत ग़ज़ल .....

श्रद्धा जैन said...

बहुत सहज हो जाने के भी अपने ख़तरे हैं
लोग समझने लगते हैं हम गूँगे-बहरे हैं

kya matla kaha hai kamaal



धड़क नहीं पाता मेरा दिल तेरी धड़कन पर
मंदिर-मस्ज़िद-गुरुद्वारों के इतने पहरे हैं

waah

निष्ठा को हर रोज़ परीक्षा देनी होती है
अविश्वास के घाव दिलों में इतने गहरे हैं

kamaal ka sher



बौनो की आबादी में है कद पर पाबन्दी
उड़ने लायक सभी परिन्दो के पर कतरे हैं

bahut hi sateek maqta

bahut khoobsurat gazal


मैं रोया तो नहीं नम हुई हैं फिर भी आंखें
और किसी के आँसू इन पलकों पर ठहरे हैं

ye sher bhi bahut pasand aaya

venus kesari said...

मत्ला से मकता तक एक शानदार गजल वाह भाई दिल खुश हो गया

मत्ला ने तो दिल लूट लिया

हार्दिक बधाई